“राणी की वाव” वाला यह 100 का नॉट है अद्भुत , भारतीय रिज़र्व बैंक ने 100 का नया नॉट लाने का एलान किया है। इन नोटों का रंग नीले रंग का होगा,

Spread the love

देश मे 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी ने पुरानी 500 ओर 1000 की नॉट को रात 12 बजे से लीगल नही माने जाने की घोषणा की..! इस घोषणा के बाद पूरे देश मे शुरू हुई मशक्कत, जो अगले सात आठ महीनों तक चलती रही। खैर उसके बाद सरकार ने 2000 की नई नॉट से रूबरू कराया उसके बाद 500, 200, 50 और 10 की नई नॉट बाज़ार को दी गई। पर समस्या यहाँ नही रुकी ATM से पैसे निकलने बंद हो गए क्योकि, नई नॉट पुराने नॉट के मुकाबले छोटे थे।


अब भारतीय रिज़र्व बैंक ने 100 का नया नॉट लाने का एलान किया है। इन नोटों का रंग नीले रंग का होगा, चौड़ाई 66 mm और लंबाई 142 mm होगी।
जाने यह नया नीला 100 के नॉट कुछ ख़ास विशेषताओं के बारे में..
नया 100 के नॉट का सामने से ऐसा दिखता है :

1 100 का अंक इस बार देवनागरी लिपि में लिखा गया है।
2 आर पार देखे जाने वाले हिस्से में 100 कई संख्या देखी जा सकती है।
3 यह आर पार देखे जाने वाली जगह के पास 100 अंक लिखी हुई छुपी तस्वीर भी है, नॉट को केवल आड़ा तिरछा करने पर यह अंक देखा जा सकता है।
4 महात्मा गांधीजी की तस्वीर बीचों बीच रखी गई है।
5 नॉट पर बारीक यानी माइक्रो अक्षरों में RBI, india और 100 लिखा गया है।
6 नॉट पर लगी चांदी की पट्टी का रंग बदलता रहेगा, उसे केवल पलटने से रंग हरे से बदल कर नीला दिखेगा, उसी पट्टी पर भारत और RBI अक्षर भी लिखे गए है।


7 नॉट की दाहिनी ओर अशोक स्तम्भ की तस्वीर है।
8 महात्मा गांधी जी की तस्वीर के पास 100 अंक लिखा है जो इलेक्ट्रोटाइप वोटर मार्क है।
9 गवर्नर के हस्ताक्षर व ग्राहक को रकम अदा करने का वचन दाहिने ओर लिखा है।
10 नॉट के दाहिने हिस्से पर ऊपर की ओर और बाएं हिस्से के नीचे की ओर एक नंबर पैनल है।
11 प्रज्ञाचक्षु नागरिकों के लिए महात्मा गांधीजी की तसवीर, अशोक स्तम्भ, वही ऊपर छापे छोटे 100 तिकोन अंक खुरदरे रखे गए है। नॉट के दाहिने और बाएं चार लाइंस भी रखी गई है।
नया 100 के नॉट का पिछे से ऐसा दिखता है :


1 “राणी की वाव” की तस्विर रखी गई है।
2 स्वछ भारत अभियान का लोगो ‘एक कदम स्वच्छता की ओर’ नारे के साथ छापा गया है।
3 नॉट की छपाई का साल बाईं तरफ़ है।
4 100 के अंक को शब्दों में अलग अलग भाषा में छापा गया है।
5 100 के अंक को देवनागरी लिपि में छापा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *